May 26, 2024

Soybean Farming :- सोयाबीन की बुवाई का सही समय क्या है? यहा देखे बुवाई की सम्पूर्ण जानकारी, कम खर्च में होगा अधिक मुनाफा

Share Post

Soybean Farming :- मानसून की एंट्री लगभग हो ही चुकी है और किसान अब अपने खेत खलियान तैयार करने लग गए हैं वही सोयाबीन एक तिलहन की फसल है जॉब की खरीद के सीजन में बोई जाती है देश के अनेक राज्यों में सोयाबीन की खेती प्रमुख रूप से की जाती है जिसके बाद अब शेविंग की बुवाई का समय आ गया है वही मानसून की देरी के कारण अभी तक सोयाबीन की बुवाई नहीं हुई है लेकिन अब जल्दी सोयाबीन की बुवाई होना शुरू हो जाएगी

Soybean Farming :- अभी इन दिनों अनेक राज्यों में तो तेज गर्मी का तांडव देखने को मिल रहा है लेकिन कई राज्यों में हल्की फुल्की बारिश हो चुकी है और कुछ किसानों ने अपने खेत में फसल को भी बोल दिया है ऐसे में किसान अब असमंजस में है कि सोयाबीन की बुवाई कब करें और कैसे करें

किसान सोयाबीन की बुवाई कब करें
Soybean Farming :- अभी अनुसंधान में यह पाया गया है कि सोयाबीन की बुवाई जून के दूसरे सप्ताह से जुलाई के प्रथम सप्ताह तक करना सबसे उचित माना जा रहा है परंतु इस बार मानसून की देरी के कारण किसानों को सोयाबीन की बुवाई करने में जल्दबाजी नहीं करनी चाहिए वही जब तक 10 से मी की वर्षा ना हो जाए तब तक सोयाबीन की बुवाई करना उचित नहीं है उसके बाद किसान वर्षा होने के बाद कर सकते सोयाबीन की बुवाई

ये भी पढ़े – PM Kusum Solar Pump Yojana : अपने खेत मे लगाए सोलर पम्प सरकार दे रही हे 90% सबसिडी

सोयाबीन की बुवाई के समय कितना यूरिया और डीएपी डालें
Soybean Farming :- किसान बुवाई से पहले पकी हुई गोबर की खाद्य अनुसूचित मात्रा 5 से 6 तन प्रति हेक्टर या फिर कंपोस्ट 5 टन प्रति हेक्टर एवं वर्मी कंपोस्ट 2.5 टन प्रति हेक्टर की मिट्टी में डाल सकते हैं

सोयाबीन के लिए आवश्यक पोषक
Soybean Farming :- तत्व 25:40:60:20 किलो प्रति हेक्टर में डाल सकते हैं यह नाइट्रोजन फास्फोरस पोटाश एवं सल्फर की पूर्ति को पूरा करता है

ये भी पढ़े – Aadhaar Update :- आधारकार्ड धारको के लिए बड़ी खबर, जानकारी अपडेट कराने के लिए नही देने होंगे पैसे, सरकार ने जारी किए नए नियम

एक उर्वरकों स्रोत का करे चयन
Soybean Farming :– यूरिया 56 Kg + 375-400 Kg सिंगल सुपर फास्फेट व 67 Kg म्यूरेट ऑफ़ पोटाश, या डी.ए.पी. 125 Kg + 67 Kg म्यूरेट ऑफ़ पोटाश + 25 Kg /हेक्टेयर बेन्टोनेट सल्फर, या मिश्रित उर्वरक 12:32:16 का 200 किलोग्राम + 25 Kg / हेक्टेयर बेन्टोनेट सल्फर का छिड़काव करें।

इस तरह करें सोयाबीन की फसल की बुवाई
Soybean Farming :- कुछ वर्षों पहले मानसून बारिश की अनिश्चितताओं के कारण सोयाबीन की फसल को बहुत नुकसान हुआ है जिसके परिणाम स्वरूप बहुत से किसानों ने सोयाबीन की खेती करना छोड़ ही दिया है किसान स्वयं को अधिक वर्षा या कम वर्षा की स्थिति में बचाने के लिए ऊंची क्यारी विधि या रेंज एंड फ्रो विधि से सोयाबीन की बुवाई करना चाहिए किसानों को अपने खेत में विपरीत दिशाओं में 10 मीटर के अंतराल सबलेर यंत्र को चलाना चाहिए जिससे भूमि का जल धारण क्षमता अधिक होती है वही सूखे की अनपेक्षित स्थिति में फसल को अधिक दिन तक बचाने में यह विधि काम करती है

 

Weather Update :- मौसम विभाग ने जारी किया अलर्ट, इन जगहों पर लगातार होगी भारी बारिश, तूफान मध्य प्रदेश की और बढ़ रहा तेजी से आगे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *