May 22, 2024

Urea New Rate :- किसानो के लिए बड़ी खबर, अब यूरिया ख़रीदे आधे से भी कम दाम में, सरकार देगी किसानो को खरीदी के उल्टे पैसे

Share Post

Urea New Rate :- नमस्कार किसान भाइयों राजनीति अपने आपको यूरिया डीएपी के बारे में बताने वाले बता दे कि डीएपी यूरिया किसानों को बहुत ही सस्ते दामों में मिल रहा है साथी किसान इन दिनों बुवाई से पहले खाद को घर ले जा सकते हैं साथ ही डीएपी यूरिया में बहुत लंबे समय बाद भाव में गिरावट आई है जिससे किसानों के चेहरे पर मुस्कुराहट देखने को मिली है वही सरकारी खजाने को भी इससे राहत मिलती दिखाई दे रही है वहीं सरकार पूर्वक आयात करने के लिए स्वतंत्र भी है

Urea New Rate :- इन दिनों यूरिया के अभाव में भी भारी गिरावट देखने को मिल रही है उर्वरक उद्योग से मिली जानकारी अनुसार वैश्विक बाजार में यूरिया की कीमतों में गिरावट आने की संभावना जताई है जिसके बाद $400 प्रति टन तक यूरिया आ सकता है वही देश में हर वर्ष लगभग 80 से 90 मिलियन टन यूरिया का आयात होता है वहीं आगामी खरीफ की फसल की जरूरतों को मध्य नजर रखते हुए यूरिया आयात का टेंडर निकाला जा सकता है

Urea New Rate :- अंतरराष्ट्रीय स्तर पर यूरिया के भाव 58 फ़ीसदी कम और डीएपी के मूल्य में लगभग 36 फ़ीसदी की कमी देखने को मिली है वही पहले सालाना $950 प्रति टन तक दर्ज की गई थी वही गिरकर अभी $400 पर आ गई है वही डीएपी जैसे बल्क फर्टिलाइजर्स की कीमत $1000 से गिरकर $640 प्रति टन पर आ गई है वहीं भारत अपनी उर्वरक जरूरतों को पूरा करने के लिए एक बड़ा हिस्सा आयात करता है

Urea New Rate :- देश सालाना लगभग 5 5 मिलियन टन डीएपी यूरिया का आयात करता है डीएपी यूरिया आयात शुरू वर्ष में 60 लाख टन से अधिक हो सकता है वित्त वर्ष में 2022 – 23 के अप्रैल 2022 से जनवरी 2023 तक यूरिया के घरेलू उत्पादन में लगभग 12.8 प्रतिशत डीएपी के 4% और एनपीके 8.6% की वृद्धि देखने को मिली है

ये भी पढ़े – Aadhar Card Loan : आधार कार्ड से मिलेगा 1 लाख रुपए तक का लोन जानिए प्रोसेस

Urea New Rate :- मिली जानकारी अनुसार नैनो यूरिया और डीएपी कृषि क्षेत्र में एक बड़ी क्रांति ला सकते हैं साथ ही इस का प्रयोग लाखों किसान अपनी खेती करने में इसका प्रयोग करते हैं और इसकी लागत भी बहुत कम होती है साथी इसका भंडारण और ट्रांसपोर्टेशन भी बहुत ही आसान देखने को मिलता है उर्वरक सब्सिडी के लिए 10000000 रुपए का प्रावधान किया गया है जिसके परिणाम स्वरूप यूरिया के आयात में केवल 1.4 प्रतिशत की वृद्धि हुई है हालांकि डीएपी और एपीके के आयात में भी भारी इजाफा देखने को मिला है वही इसकी कीमतों में गिरावट होने के बाद आयात की भी मांग बढ़ सकती है

 

 

business idea : इसकी पोधे की खेती कर हर महीने कमाए 5 लाख रुपए

 

Nari Samman Yojana : के तहत महिलाओ को मिलेगी 2000 रुपए की आर्थिक साहयता

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *