May 26, 2024

आपके खेत पर DP या पोल लगा हुआ है तो विधुत कंपनी आपको देगी किराये, बिजली कंपनी अगर 30 दिन में कनेक्सन नही देती तो आप ले सकते है मुआवजा, विस्तार से पढ़े

Share Post

अगर आप भी एक किसान हैं और आप के खेत में फूल या डीपी लगी हुई है तो आप धारा 57 के तहत विद्युत अधिनियम का फायदा ले सकते हैं कन्या किसान महाराष्ट्र राज्य इलेक्ट्रिसिटी बोर्ड को जानते हैं परंतु उसका फायदा नहीं ले पाते हैं जिसका आज हमने इस लेख में आपको संपूर्ण जानकारी देंगे

हम आपको इसलिए के अंतर्गत धारा 57 के बारे में बताएंगे इसके लिए आपको अंत तक इस देश को पढ़ना होगा आपको महाराष्ट्र राज्य विद्युत बोर्ड को लिखित आवेदन देना होगा उसके 30 दिनों के भीतर आपको प्राप्त होगा अगर ऐसा नहीं होता है तो कानून के अनुसार आपको पैसे का मुआवजा दिया जाएगा इस को सरल भाषा में समझते हैं

30 दिन में कनेक्सन नही तो मिलेगा मुआवजा
कंपनी आपको 48 घंटों के भीतर ट्रांसफॉर्मर को सही कर कर देगी अगर उसमें कोई खराबी होती है तो अगर ऐसा नहीं होता है तो महाराष्ट्र राज्य इलेक्ट्रिक बोर्ड अधिनियम के तहत 50 रुपए का सुझाव दिया जाएगा किसान विद्युत अधिनियम 2003 की धारा 57 और अनुसूची क्रमांक 30(1) के अनुसार किसान अपना स्वयं का मीटर लगा सकता है जबकि उसे कंपनी के मीटर पर भरोसा करना होगा

अगर बिजली कंपनी किसी दूसरे के खेत में अगर बिजली ले जाना चाहती है और वहां स्टेशन ट्रांसफॉर्म डीपी या फिर फोन लगाती है तो कंपनी के साथ भूमि का किराया समझौता किया जाता है इसके तहत किसान को 2000 से ₹5000 का मिल किराया मिलता है अगर किसान ने एनओसी या अनापत्ति प्रमाण पत्र दिया है तो बिजली कंपनी किराया नहीं वसूल सकती है

हमने आपको इस लेख के अंतर्गत धारा 57 के बारे में बताएं जिसमें आप अगर आपके खेत में बिजली कंपनी ट्रांसफार्मर या डीपी फोन लगाती है तो आप अपना किराया ले सकते हैं साथी लिखित आवेदन देकर 30 दिनों के भीतर आपको कनेक्शन लिया जाएगा ऐसा नहीं होने पर आप कंपनी से मुआवजा ले सकते हैं

 

Weather Update :- मौसम विभाग ने 25 जिलो के लिए जारी किया भारी बारिश का अलर्ट, इन राज्यों में गिर सकती है बिजली, आंधी-तूफान और बदलो की होगी गड़गड़ाहट

 

ColdDrink Viral Fact :- क्या आम खाने के बाद कोल्ड ड्रिंक पिने से हो सकती है मौत ? सच्चाई जानकर आप हो जायेंगे हेरान

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *