April 23, 2024

Kisan News : गेहू की फसल के लिए बढ़ता तापमान है नुकसान दायक, गेहू के बचाव के लिए किसान करे ये काम

Share Post

नमस्कार किसान भाइयो आज हम इस लेख के माध्यम से गेहू की फसल के बारे में बात करने वाले है साथ ही बता दे अगर अधिक तापमान बढ़ तो गेहू की फसल को काफी नुकसान हो सकता है वही कम तापमान गेहू के लिए फायदेमंद होने वाली है और फसल भी अच्छी होती है यहाँ देखिये की गेहू की फसल को नुकसान होने से कैसे बचाए

गेहू की फसल में नुकसान होने से बचाए
कुछ समय पहले ठण्ड चल रही थी जिससे किसानो का कहना है ठंड के चलते गेहूं की फसल को अच्छा फायदा मिलने वाला है साथ ही पैदावार भी अच्छी होती है लेकिन कुछ समय से मौसम के तापमान में बढ़ोतरी देखने को मिल रही है ।

अचानक से मौसम में परिवर्तन आने के कारण गेहू की फसल में नुकसान हो सकता है अधिक तापमान के कारण चने की फसल को भी काफी नुकसान होता है कुछ दिनों पहले ठण्ड चल रही थी लेकिन अभी अचानक गर्मी आई है जिससे गेहू की फसल को भी काफी नुकसान देखने को मिल रहा है ।

गेहू की फसल के लिए अधिक तापमान नुकसान दयाक होते है अप्रैल महीने तथा जून में गरमी बढ़ रही है गेहूं की फसल को चाहिए कि मौसम ठंडा रहे और ठंडा मौसम में गेहूं की फसल काफी अधिक विकसित होती है और पैदावार भी अच्छी निकलती है।

Read More – चने की फसल को सरकार खरीदेगी इतने रूपये में, 1.39 लाख़ टन की खरीदी का लक्ष्य है सरकार का

गेहूं की फ़सल में ज्यादा तापमान से क्या होता है नुकसान
किसान साथियों बढ़ते तापमान के कारण फसल में विकास काम होता है। इसलिए गेहूं की फसल को तापमान के कारण नुकसान ना हो इसके उपाय करना जरूरी है। क्योंकि अगर बाढ़ के तापमान का उपाय नहीं किया गया तो गेहूं की फसल में बन रही फलिया कमजोर हो सकती है जिसके कारण पैदावार में नुकसान दर्ज हो सकता है।

ज्यादा तापमान से गेहूं की लंबाई पर पड़ता है प्रभाव
कृषि एक्सपर्ट के अनुसार बताया गया है कि ज्यादा तापमान बढ़ने के कारण गेहूं की लंबाई में काफी असर देखने को मिल सकता है। क्योंकि अधिक तापमान होने के कारण गेहूं की फसल बडवार नहीं कर पाती और हाइट कम रह जाती है। इसके साथ-साथ अधिक तापमान होने के कारण गेहूं की फसल में पकाव जल्दी आता है। फसल को पूरा समय नहीं मिलने के कारण पैदावार में कमी आती है।

ज्यादा तापमान से गेहूं बालियों पर प्रभाव
अधिक तापमान होने के कारण गेहूं के बोलियो पर भी प्रभाव देखने को मिलता है। क्योंकि गेहूं के बालियों में अधिक तापमान के चलते दाना ठीक से नहीं बन पाता। ज्यादा तापमान के कारण पुष्पम क्रिया जल्द हो जाती है। जिसके कारण गेहूं की बालियों में दाने ठीक से नहीं बनते। एकदम से तापमान बढ़ जाने के कारण वालियों में बनने वाले दाने का विकास अच्छी तरह से नहीं हो पाता है। जिसके कारण दाना कमजोर रह जाता है।

 

बढ़ते तापमान से गेहूं को बचाने के करें उपाय
अधिक तापमान बढ़ने के कारण गेहूं की फसल में हो रहे नुकसान को ठीक करने या बचाने के लिए किसानों को बढ़ते तापमान का उपाय जरूर करना चाहिए। जिससे कि गेहूं की अच्छी पैदावार हो सके और पौधे की विकास क्रिया अच्छे से चलती रहे।

दाना भाव तथा दान निर्माण के समय अधिक तापमान बढ़ने से बचाने के लिए 15 ग्राम 100 लीटर पानी में सिलीसीक अमल मिलाकर फोलियर स्प्रे छिड़काव करें। इसका पहला छिड़काव आपको झंडा अवश्ति में करना चाहिए वहीं दूसरा छिड़काव दूधिया अवस्था के समय करना चाहिए।

 

Read More – सरकार ने किसानो को दिया बड़ा तोहफा, इन किसानो का सरकार करेगी 1 लाख तक का लोन माफ़

अगर ज्यादा तापमान बढ़ रहा है तो उसे समय गेहूं की फसल को हल्का पानी देकर भी बढ़ते हुए तापमान को रोकने में मदद मिल सकती है। इसके साथ अगर आप म्यूरेट ऑफ पोटास 0.2% या पोटास नाइट्रेट 0.2% का छिड़काव करके भी ज्यादा तापमान से बचाने में मदद मिलती है।

100 लीटर पानी में एस्कार्बिक अम्ल 10 ग्राम डाल कर स्प्रे करते हैं। तो इससे भी अच्छा लाभ मिलता है। ज्यादा बड़े हुए तापमान का असर गेहूं की फसल पर नहीं पड़ेगा।

अगर आपने गेहूं की फसल के पछेती बिजाई कर रखी है तो उसमें पोटेशियम नाइट्रेट 13:0:45 का और चिल्टेड जिंक व चिल्टेड मेगनिश्यम का उपयोग कर सकते हैं। इसका छिड़काव करने से अच्छा लाभ मिलेगा।

ज्यादा तापमान बढ़ने के कारण अगर आपकी फसल में झूलसा रोग आया है। क्योंकि ज्यादा तापमान से गेहूं की फसल में झुलसा रोग आने की संभावना बढ़ जाती है। किस रोग से फसल को बचाने के लिए प्रॉपिकोनाजोल 1 मिली लीटर मात्रा के अनुसार प्रति लीटर पाणी में मिला लें। 10 दिन से 12 दिन के अंतराल के बाद इसकी दो बार छिड़काव कर देना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *