May 27, 2024

Benefits of Kakora :- ककोड़ा में होती है दुनिया की सबसे अधिक ताकत, सब्जी खाने से इन रगों से तुरंत मिलता है फायदा

Share Post

Benefits of Kakora :- बारिश का मौसम आते ही अनेक प्रकार की सब्जियां भी हमारे सामने आ जाती है जिसमें कुछ सब्जियां तो ऐसी होती है जो हमारे लिए बहुत ही शक्तिशाली साबित होती है जिन जिसमें एक ककोड़ा या फिर कहे तो खेखसा हमारे शरीर के लिए बहुत ही फायदेमंद होता है साथ ही ककोड़ा औषधि गुणों में भी काम आता है इसे एक आयुर्वेदिक औषधि भी अपन मान सकते हैं बता दें कि ककोड़ा सांस प्रणाली संबंधित रोग मित्र विकास बुखार सूजन आदि में काम आता है भाई आज के समय में बहुत से लोग ही ऐसे हैं जो इसे रोजाना उपयोग करते हैं वही इसका उपयोग करने के बाद उन्हें आराम भी मिलता है वहीं राजस्थान में इस खोखसा को किकोड़ा, ककोड़ा जैसे नामों से जाना जाता है

ककोड़ा में यह होती है ताकत (This is the power in Kakoda)
Benefits of Kakora :- वही इसके पौधे आपको खेत के आसपास भी देखने को मिल जाएंगे और यह ज्यादातर बरसात के मौसम में उगते है वहीं डॉक्टरों का कहना है कि बारिश के सीजन में सब्जियों को उगाने के लिए कीटनाशकों का उपयोग किया जाता है लेकिन ककोड़ा आया कि कोड़ा पूरी तरह से प्रकृति के होता है जिसमें प्रोटीन आयरन भरपूर होता है और यह मांस से भी अधिक गुनाह ताकतवर होता है और कहा जाता है कि 50 गुना ताकत और प्रोटीन ककोड़ा में होती है वही ककोड़ा में फाइटोकेमिकल्स होते हैं जो हमारे शरीर में अनेक प्रकार की सहायता करते हैं यह ककोड़ा एंटीऑक्सीडेंट से भरपूर होता है

ये भी पढ़े – आपके खेत पर DP या पोल लगा हुआ है तो विधुत कंपनी आपको देगी किराये, बिजली कंपनी अगर 30 दिन में कनेक्सन नही देती तो आप ले सकते है मुआवजा

ककोड़ा का पौधा उग जाता है अपने आप (Cucumber plant grows by itself)
Benefits of Kakora :- इस पौधे की अच्छी बात यह है कि यह हमारे खेत के आसपास मिल जाता है साथ ही इसे उगाने की जरूरत भी नहीं होती है बारिश का मौसम आते ही यह खुद उग जाता है और अगर आप गांव में रहते हैं तो इससे रोजाना अपने खेत पर देखते ही होंगे लेकिन अगर आप शहरी इलाके में रहते हैं तो आपने इसका पौधा जंगल या किसी खेत किनारे देखा ही होगा इसी कारण से एग्रीकल्चर डिपार्टमेंट भी इसके बीज नहीं रखता है और इसकी सप्लाई जंगल या फिर गांव से होती है वही यह पकते ही इसके बीज अपने आप जमीन पर गिर जाते हैं जिससे यह पहली बारिश में ही कुकर फल देना शुरू कर देते हैं इसे आप खेत या फिर गांव और जंगल से आसानी से प्राप्त कर सकते हैं

 

Soybean Rate :- एक बार फिर सोयाबीन के भाव में आई तेजी, इस प्रदेश में सोयाबीन की बुवाई में हो रही देरी जिससे अवाक् में हुई बढोतरी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *